जीवन बहुत छोटा है, और समय बहुत कम! जीते जी प्रभु को जान लें!!

“यहोवा शीलों में पुनः प्रकट हुआ क्योंकि यहोवा ने शीलों में अपने वचन के द्वारा अपने को शमूएल पर प्रकट किया।” 1 शमुएल 3:21
हर सच्चा विश्वासी परमेश्वर को पाने की और उन्हें अधिक जानने की इच्छा अवश्य रखता है। इस संसार में हमारे जीवन का मुख्य मक़सद यही है कि हम उन्हें खोजें और उन्हें जान कर, उन्हें पाकर, उनके अधीन अपना जीवन जीएँ।
इस इच्छा के पूरा होने के लिए हमें क्या करना होगा? प्रभु येशु मसीह को और ज़्यादा जानने के लिए मसीही लोग बहुत कुछ करते हैं। बहुत से लोग घंटों प्रार्थना करते हैं, उपवास करते हैं, कुछ प्रभु के दासों से प्रार्थना करवाते हैं, और कुछ तो इसराएल देश को तीर्थ यात्रा के समान समझ कर वहाँ जाते हैं।

प्रार्थना करना/करवाना और उपवास रखना – यह सब उचित बातें हैं, और परमेश्वर इनका उचित फल हमें ज़रूर देंगे।परंतु यदि हम बाईबल अध्ययन नहीं करेंगे, हम प्रभु को पूर्ण रूप से नहीं जान पाएँगे – फिर चाहे हम कितनी भी प्रार्थना और उपवास क्यों न कर लें!

1 शमुएल 3:21 के अनुसार हम देखते हैं कि शीलोह (प्रार्थना की जगह) में परमेश्वर ने अपने आप को वचन के द्वारा शमुएल पर प्रकट किया।
जी हाँ! यदि हम प्रभु के दर्शन चाहते हैं, उनका गहरा ज्ञान चाहते हैं, तो हमें प्रार्थना के साथ साथ, उनकी खोज उनके वचन में करनी होगी। परमेश्वर ने अपनी सच्चाइयों को हमारे लिए पवित्र वचन में लिख कर रख दिया है। अब ये हम पर है – जिन्हें उन सच्चाइयों तक पहुँचना है, उनके वचन का अध्ययन करना होगा।
बीते साल 2016 में आपने वचन के ज़रिए परमेश्वर को जाना या नहीं, यह आप जानते हैं। यदि आपने बीते साल में वचन को इच्छा से और लगन से नहीं पढ़ा, और परमेश्वर को जानने में पीछे रह गए तो इस साल 2017 में क्या आप इस अवसर को बर्बाद करना चाहेंगे? मत कीजिए! जीवन बहुत छोटा है, और समय बहुत कम!
क्यों न इस साल आप सब बाईबल पढ़ने के लिए गम्भीर हो जाएँ? येशू नाम सत्संग में इस साल बाइबल अध्ययन के लिए हमारे पास 2 रीडिंग प्लान हैं – उनका उपयोग करके आप बाइबल का अध्ययन सुचारू रूप से कर सकेंगे।
यदि आपको सहायता चाहिए, हम से ज़रूर बात करें।
जैसे परमेश्वर ने अपने वचन के द्वारा अपने आप को शमुएल पर प्रकट किया, वैसे वह आप पर भी अपने आप को प्रकट करेंगे – बरशरते आप वचन को प्रार्थना के साथ निरंतर, प्रतिदिन पढ़ते रहें!
आप इस लक्ष्य में ज़रूर कामयाब होंगे। प्रभु आपके साथ है।
प्यार और आशीष,
पास्टर जॉए गिल